Tuesday, March 19, 2013

उतराखण्ड में डाक्टरो कमी



उतराखण्ड में डाक्टरो कमी

आज देश  में विषेश  तौर पर उतराखण्ड में डाक्टरो कमी खल रही है। कोई भी डाॅक्टर आज पहाड़ पर चढ़ने  या नौकरी करने को तैयार नही है। चाहे उनको दुगुना धन दे दिया जाए।

आज युवा वर्ग पहाड़ो पर काम करने एंव देश की सेवा और उन गरीब असाय लोगों की मद्द करने को तैयार नही है। आज लोग पैसे की चमक एंव अत्याधुनिक जीवन शैली को छोड़कर पहाड़ों में नही जाना चाहते है।

जबकि डाॅक्टरी एक ऐसा पेसा है जिसको लोग भगवान का दर्जा देते है और पहाड़ो पर लोगो के पास इतना पैसा नही होता कि वे लोग शहरो में आकर अपना इलाज करा सके। युवाओं को खासतौर पर इस बात पर सोचना चाहिए कि गरीब असाय लोगो की मद्द कैसे कि जाए।

डाक्टरी एक ऐसा पेषा है कि जिसको लोग भगवान का दर्जा देते है। ऐसे में युवा डाॅक्टरो को आगे आना चाहिए और समाज सेवा के साथ-साथ देश की मदद भी कर रहे है। पहाड की सुख सुविधाओ से वंचित जीवन में मुलभूत आवष्यकता वाली चीजो से आदमी वंचित न रहे। जिससे पहाड़ो पर हो रहा पलायन भी रूक जायेगा और सभी पहाड़ो पर रहने वाले लोगो के जीवन पर असर पडेगा। जिससे लोगो पहाड़ो पर रोजगार के साधन एंव पर्यटन में वृद्धि होगी। 

अगर भारत में आवागमन के साधन जिस दिन दुरस्त हो जायेगे उस दिन पहाड़ो पर लोगों का पलायन तो रूकेगा ही साथ ही लोग पहाडों पर रोजगार के साधनो के लिए जायेगे। पहाड़ो पर जिस दिन यातायात के साधन दुरस्त हो जायेंगे उस दिन से पहाड़ो का जीवन यापन एंव रोजगार के साधनों में चार चाॅद लग जायेगे और पर्यटन उद्योग को बढ़ावा  मिलेगा साथ ही साथ रोजगार के नये साधन सृजित हो जायेगें।


Durgesh Ranakoti
Dehradun, Uttarakhand

No comments:

Post a Comment