Thursday, January 17, 2013


Hit And Run

आज हम लोग घर से बाहर निकलते तो सुरक्षित नही है, सड़को पर अताधुन्ध स्पीड से चल रही गाडीयो के चक्कर मे न जाने कितने मासुमो को मौत के मुॅह में धकेल देते है 
हर किसी को तेज चलने की होड लगी है जैसे कोई रेस हो रही है
आज देश मे हजारो की संख्या में रोड़ एक्सीडेट मे हर दिन कोई न कोई लोग मरते रहते है
अगर हम लोग एव प्रशासन दुरस्त हो जाये तो हिट एण्ड रन के मामले मे हम हर रोज मरने वाले मासूमों को बचा सकते है
देहरादून के मियावाला में प्रीति षर्मा को भी अज्ञात वाहन ने भी उसका जीवन छीन लिया और हम हाथ पर हाथ धरे बैठे रह गये , वह चालक मारकर भाग गया और हम कब तक इन गुनाहगारों को ऐसे बेगुनाहो की जान लेने देगे
हर बार की तरह इस बार भी वो अज्ञात वाहन चालक एक निष्चत सीमा में रहकर गाडी चलाता तो वह इस मासुम की जिन्दगी बचा लेता लेकिन स्पीड के कारण वह ऐसा न कर सका होगा
अगर इस बार उसको उसके किये कि सजा मिल जाये तो भविश्य में इस प्रकार की घटनाओं पर भी अंकुष लगेगा और मासुम लोगो को मौत के मुॅह से भी बचाया जा सकता है, इस तरह की घटनाओं से आम आदमी कम परेषान होता लेकिन उनके परिवार वाले जिनके अपनो के साथ इस प्रकार की घटना होती है वो लोग सजक हो कर इस लड़ाई को लडे ताकि हजारो रोड दुर्घटना मे मरने वाले मासुमो की जिन्दगी बचाई जा सकती है
अगर षहर के अन्दर इस तरह के सेंसर लग जाये कि वो ट्रैफिक नियम तोडने वालो को कडी सजा दे और अगर कोई वाहन निष्चित सीमा से ज्यादा सीमा से वाहन चलाता है तो उसका चालान तुंरत काटके उसका लाइसेंस निरस्त करके उसको सजा भी दी जाए और पुलिस को भी इस तरह के चालाको को ब्लू प्रिंट तैयार करना चाहिए ताकि भविश्य में इस प्रकार की घटनाओं पर अकुंष लगाया जा सके 

No comments:

Post a Comment