Friday, December 21, 2012

हाईकमान


भारतीय जनता पार्टी में वरिश्ठतम नेता माननीय आडवाणी जी की बातो पर ध्यान एंव अमल करना चाहिए उन्होने पार्टी के लिए अपना सर्वस्य न्यौछावर किया है उनकी नसीहतो को पार्टी को हमेषा अमल में लाना चाहिए वे देश  के सबसे कददावर एंव बुद्विमान नेता है और भारतीय जनता पार्टी मे प्रधानमंत्री पद के सबसे प्रबल दावेदार है उनको पार्टी में हमेषा किंगमेकर का रोल निभाना चाहिए जिससे पार्टी में पद की लालसा के चक्कर में नेतागण आपष में न लडे जिस तरह काॅग्रेस में सोनिया गाॅधी है, काॅग्रेस में हाईकमान की बाते सभी मानते है चाहे वह छोटा नेता या बड़ा नेता/कार्यकरता हो सभी अपनी सीमा में रहते है भा0ज0पा0 में आडवाणी जी के बाद पार्टी में प्रधानमंत्री पद के बहुत सारे उम्मीदवार है पार्टी के नेतागणों को एक सुर मे बोलना चाहिए है तथा नेतागणों को मिडिया के सामने अनाप-ंउचयसनाप अपने बयान नही देना चाहिए सार्वजनिक नही करने चाहिए जिससे पार्टी की छवि धुमिल न हो इससे पार्टी का समाज/जनता के बीच में पार्टी का गलत मैसेज जाता है
प्रमोषन में आरक्षण वाले मसले पर पार्टी अगर आरक्षण का समर्थन करती तो निसंदेह लोकसभा चुनाव 2014 मे पार्टी को बहुत नुकसान उठाना पड़ता, सवर्णो की पार्टी कही जाने वाली भा0ज0पा0 सवर्णो के साथ नही खडी हुई।
आरक्षण एक अभिसप्त है जिसे आम आदमी कभी नही चाहता है कि किसी भी सख्ष को आरक्षण की वजह से नौकरी मिले, समानता का अधिकार होना चाहिए
इसमे भा0ज0पा0 को अपने वरिश्ठतम नेताओं की राय लेना चाहिए, जिससे पार्टी में अनुषासन बना रहे।


Durgesh Ranakoti
Dehradun, Uttarakhand

No comments:

Post a Comment