Saturday, September 8, 2012

Reservation


आरक्षण दे पर एक अभिषप्त है। आज देष के आजादी के 65 वर्शो के बाद आरक्षण जैसी विकराल समस्या जस की तस बनी हुई क्या 65 सालो से जो पिछडे है वो आज बी पिछडे है फिर क्या गारटी है कि लोग कभी पिछडे पन से दूर हो जायेगे। राजनितिक पार्टीयों ने सिर्फ अपने फायदे के लिए ये पैतरा फेका था और आज भी आरक्षण जस का तस बना है जबकि पिछडे लोग आरक्षण का लाभ लेने के लिए आज भी आतुर है जो सही मायने पिछडा है वो आरक्षण के 65 वर्शो के बाद भी पिछडा है

No comments:

Post a Comment